मुम्बई/नई दिल्ली: सुशांत सिंह राजपूत की मौ’त के केस में अर्ज़ी-फ़’र्ज़ी हर तरह की ख़बरें चला के बहुत से कथित मीडिया हाउसेस ने ख़ूब पैसा बनाया है. आख़िर रिपोर्ट वही आयी जो मुम्बई पु’लिस कह रही थी. ये मामला शुरू से ही सुसा’इड का बताया जा रहा था लेकिन बहुत से चै’नलों और ट्रो’लर्स के सोशल मीडिया कैम्पेन चलाने के बाद मामले में किसी भी तरह से बड़े फ़िल्म सितारों को दो’षी ठहराने की कोशिश होने लगी. हालत तो ये हो गई कि अगर कोई सुशांत की मौ’त का कारण सुसाइ’ड बता दे तो उसके ख़ि’लाफ़ ज़’बरदस्त ट्रो’लिंग होती.

मुम्बई पुलि’स जब मामले की जाँच कर रही थी तो अचानक सुशांत के परिवार ने बिहार में FIR दर्ज कराई. बिहार पु’लिस भी इस मामले में जाँच करने की कोशिश करने लगी जबकि मामला महाराष्ट्र का था. बिहार पुलि’स को जब इस बात का अंदाज़ा हो गया कि ये उसके अधिकार क्षेत्र से बाहर है तो बिहार सरकार ने सीबीआई जाँच की सिफ़ारिश कर दी. सीबीआई जाँच की बात सुनकर यही मीडि’या जश्न मना रहा था, मुंबई पु’लिस को गा’ली दे रहा था.


सीबीआई जाँच में बहुत ही धीमी रफ़्तार से काम हुआ लेकिन मी’डिया ने इस पर कोई सवाल ख’ड़ा नहीं किया. फिर जब कुछ चैनल्स ने रिपोर्ट दी कि सीबीआई को ए’म्स पैनल ने रिपोर्ट भेज कर कहा कि ये मामला सुसा’इड का ही है और किसी भी तरह से इसको म’र्डर का मामला नहीं कहा जा सकता. इसके पीछे ए’म्स के पैनल ने मे’डिकल के लिए ज़रूरी तथ्य पेश किए. ए’म्स पैनल की रिपोर्ट ने उन सभी चैनल्स को जो सुशांत की मौ’त को सेंसेशन में तब्दील करके उससे TRP कमा रहे थे, का नक़ाब उतार कर फेंक दिया.

परन्तु कहते हैं कि कुछ लोग सुधर नहीं सकते और अब तक सीबीआई-सीबीआई की जयजयकार करने वाले अब सीबीआई के ही पीछे प’ड़ गए हैं. एक क’थित चैनल द्वारा डॉक्टर सुधीर गुप्ता की भी ट्रो’लिंग हो रही है. इस मामले पर एक बार फिर अपना पक्ष रखते हुए शिवसेना के वरिष्ठ नेता संजय राउत ने बयान दिया,”डॉक्टर सुधीर गुप्ता जोकि एम्स के फॉरें’सिक मेडि’कल बोर्ड के हेड हैं उन्होंने रिपोर्ट बनाई है.. उनका शिवसेना से कोई पोलिटिकल कनेक्शन तो है नहीं.. इस केस में शुरू से ही महाराष्ट्र सरकार और मुम्बई पुलि’स को बदनाम करने की कोशिश हो रही है..अब अगर सीबीआई जाँच पर भी विश्वास नहीं है तो हम क्या कहें”


वहीँ मुम्बई पुलि’स ने भी बयान दिया है. मुम्बई के पु’लिस कमिश्नर परम बीर सिंह ने बयान दिया कि हमें इस रिपोर्ट ने बिलकुल नहीं चौंकाया.. कूपर अस्पताल ने भी यही पाया था.उन्होंने कहा कि जो भी लोग हमारी जाँच की आलोच’ना बिना किसी जानकारी के कर रहे हैं..और अलग-अलग चैनल पर जाकर बयान दे रहे हैं..मैं उन्हें चुनौती देता हूँ कि वो आकर जानकारी दें.