सिद्धार्थ की अं’तिम यात्रा में शहनाज़ कर रही थीं ये काम, जा’नकर आँ’खें भर जाएगी…

गुरुवार की सुबह सभी के लिए दुः’ख भ’री ख़’बर लेकर आयी जब सिद्धार्थ शुक्ला ने इस दुनिया को अलवि’दा कह दिया। कल उनका अं’तिम संस्कार किया गया। इस दौ’रान उनकी माँ और उनकी बहुत अच्छी दोस्त शहनाज़ का हाल सबसे बु’रा था। दोनों ही सिद्धार्थ के जाने को लेकर ग़’म में डू’बी हुई थीं।

सिद्धार्थ की माँ रो’ती हुईं ख़ुद को सम्भा’लने की कोशिश भी कर रही थीं वहीं शहनाज़ के लिए ये काम बहुत मु’श्किल नज़’र आया। सिद्धार्थ की अं’तिम यात्रा में पहुँची शहनाज़ पूरे समय ‘सिद्धार्थ..सिद्धार्थ’ पुका’रती रहीं। वो उसके साथ ही बनी रहीं। एक्ट्रेस सम्भावना सेठ ने बताया कि पूरे समय शहनाज़ सिद्धार्थ के पैरों के पास ही बैठी रही।

जब सिद्धार्थ की अं’तिम क्रि’या की जा रही थी तब वो ‘सिद्धार्थ मेरा बच्चा’ कहती हुई रो पड़ीं। शहनाज़ को सम्भा’लना सभी के लिए काफ़ी मु’श्किल हो रहा है। वो इस ग़’म से बु’री तरह टू’ट चुकी हैं। जिस समय सिद्धार्थ ने अपनी अं’तिम साँसे ली उस समय भी शहनाज़ उनके साथ ही थीं। उनके लिए ये सद’मा बहुत गह’रा है।

शहनाज़ को सम्भा’लने के लिए उनके भाई शाहबाज़ भी आए हैं। शहनाज़ के पिता का कहना है कि सिद्धार्थ के जाने से उनकी बेटी बु’री तरह टू’ट गयी है। शहनाज़ के लिए ‘सिडनाज़’फ़ैन भी काफ़ी परे’शान हैं। शहनाज़ सिद्धार्थ को बहुत चा’हती थी और उनके साथ ही अपना ज़्यादा से ज़्यादा समय भी बि’ताती थीं।

शहनाज़ के लिए सिद्धार्थ उनकी दुनिया थे। शहनाज़ के लिए सिद्धार्थ का जाना एक बहुत बड़े ग़’म का कार’ण है। वो इससे किस तरह उब’र पाएँगी कह पाना मु’श्किल है। वहीं सिद्धार्थ के फ़ैन्स भी इस बात को मा’नने को तै’यार नहीं हैं कि उनके चहेते सिद्धार्थ अब इस दुनिया में नहीं हैं। सिद्धार्थ की अं’तिम यात्रा में जितने लोग आए उससे ये अं’दाज़ा लगाया जा सकता है कि उन्होंने कितने लोग क’माए थे।

चुग़ली बाज़

चुग़ली बाज़

Leave a Reply

Your email address will not be published.

error: Content is protected !!