सुशांत सिंह राजपूत केस में आये दिन नए मोड़ आ रहे हैं. पिछले दिनों इसकी जाँच सीबीआई को सौंप दी गई और बाद में इसमें ED और NCB जैसी एजेंसियां भी आ गईं. इस केस में इतने लोगों के अलग-थलग बयान आये हैं कि अब कौन सच बोल रहा है कौन झूठ इस बात का पता लगना भी मुश्किल हो गया है. अब इसमें एक और नया मोड़ आया है. सुशांत सिंह राजपूत की बिज़नस मैनेजर श्रुति मोदी ने इस सिलसिले में सीबीआई टीम को बताया है कि सुशांत लम्बे समय से ड्र’ग्स लेते थे.

मोदी ने साथ ही ये भी कहा है कि सुशांत के रिश्ते उनके परिवार से अच्छे नहीं थे. यही बात रिया चक्रवर्ती भी कह रही हैं. श्रुति मोदी के वकील ने तो यहाँ तो कहा है कि सुशांत की बहनें उनकी प्रॉपर्टी को हड़पना चाहती थीं जिसका विरोध सुशांत कर रहे थे. श्रुति मोदी के वकील अशोक सरावगी ने दावा किया कि रिया के मिलने से पहले ही सुशांत ड्र’ग्स के आदी थे. उन्होंने कहा कि पहले सोहेल और सुशांत का नौकर केशव ड्र’ग्स का इंतज़ाम करते थे. सुशांत के दोस्त आयुष शर्मा और आनंदी उनके घर पर रुककर साथ में पार्टियां किया करते थे.

उन्होंने यह भी दावा किया है कि ये पार्टियां सुशांत की बहनों की मौजूदगी में भी होती थीं और ऐसे में ये ज़ाहिर है कि बहनों को इस बात की जानकारी थी. मोदी के वकील ने परिवार से रिश्तों पर बात करते हुए कहा कि पिछले साल के नवम्बर महीने में सुशांत की बहनें उनसे मिलने आयीं थीं लेकिन फिर काफ़ी लड़ाई हो गई जिसके बाद दोनों बहने होटल ललित में रहने चली गईं. सरावगी ने दावा किया कि इसी समय सुशांत की तबीअत बिगड़ गई और अगले दिन उन्हें हिंदुजा अस्पताल में दाख़िल किया गया.
Sushant Singh Rajpoot[/caption]
इसके बाद से ही सुशांत अपने परिवार और पिता से बात नहीं कर रहे थे. उन्होंने ये भी दावा किया कि सुशांत की बहनों ने 26 नवम्बर को सुशांत की प्रॉपर्टी की जानकारी माँगी लेकिन श्रुति ने इस जानकारी को साझा करने से इनकार कर दिया. सुशांत के परिवार का दावा है कि सुशांत के अकाउंट में 15 करोड़ रुपए थे लेकिन श्रुति मोदी ने कहा है कि एक्टर के अलग-अलग एकाउंट्स में 8 करोड़ के क़रीब रुपए थे. इन एकाउंट्स की नॉमिनी सुशांत की बहन प्रियंका थीं.

हर रोज़ नई बातें सामने आने से केस सुलझने की बजाय उलझता जा रहा है. मीडिया में भले ही रिया चक्रवर्ती को बार-बार दोषी ठहराया जा रहा हो लेकिन अभी तक सीबीआई उन्हें गिरफ़्तार नहीं कर सकी है. इसका अर्थ यही है कि उनके ख़िलाफ़ भी एजेंसी को कोई बहुत मज़बूत सबूत नहीं मिला है.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *