रात दिन शाहरुख़ के घर के बाहर बैठा रहता था, आज बन गया बड़ा हीरो

कई युवा ऐसे होते हैं जो फ़िल्मी हीरो बनने का सपना देखते हैं। कुछ ऐसे भी होते हैं जो इस सपने को पूरा करने के लिए जी- जा’न लगा देते हैं। आज एक ऐसे ही लड़के की कहानी हम आपको बताने जा रहे हैं, जो छोटे शहर से बड़े ख़्वाब लेकर मुंबई आया था। कहाँ जाना है क्या करना है से अनजा’न मुंबई आते ही शाहरुख़ ख़ा’न के घर के बाहर जाकर बैठ गया। वहाँ बैठा ही रहता ताकि उसे उसका प्रिय हीरो कभी तो नज़र आ जाए। ये लड़का कोई और नहीं बल्कि राजकुमार राव हैं।

जी हाँ, राजकुमार राव अपने हीरो बनने का श्रेय शाहरुख़ ख़ा’न को देते हैं। राजकुमार का कहना है कि शाहरुख़ दिल्ली से आकर जिस तरह अपना मुक़ाम बनाए उसने उन्हें बल दिया। राजकुमार को बचपन से बस एक्टर ही बनना था। इसके लिए क्या किया जाए ये तो पता नहीं था। पर स्कूल में भी अक्सर ड्रा’मा में भा’ग लिया करते। स्कूल में इतना माना जाता था कि जब उनके पापा की नौकरी चली गयी तो टीचर ने ख़ुद पैसे देकर राजकुमार और उनके भाई- बहन को पढ़ाया।

घर से भी राजकुमार को काफ़ी सपो’र्ट मिला करता था। एक बार मुंबई आ गए कि शहर देखा जाए। पैसे न होने के कारण चर्चगेट जाकर पूरा फ़िल्मी सीन तो नहीं देख पाए लेकिन शाहरुख़ के घर के सामने बैठे रहते। एक रोज गौरी ख़ा’न नज़र आयीं लेकिन शाहरुख़ नहीं दिखे। बाद में पुणे जाकर FTII से एक्टिंग का कोर्स भी कर लिया। अब ये मुश्किल थी कि किस तरह से ख’र्च चलाया जाए। कहते हैं एक रोज़ पैसे नहीं थे तो अपने एक दोस्त को फ़ोन कर कहा कि खाना खाने आ रहे हैं।

पहली बार मॉडलिंग का एक दिन में जब 5 हज़ार मिला तो मन ख़ुश हो गया।पर जब एक्टिंग में हाथ आ’ज़माने का मौक़ा आया तो लोगों ने कहा कि तुम्हारी बॉडी हीरो वाली नहीं है। राजकुमार का कहना है कि उन्हें तो एक्टिंग करनी थी हीरो बनने से कोई मतलब था नहीं। आ’ख़िर एक-एक करके फ़िल्में मिलती गयीं और राजकुमार ने ख़ुद को साबित भी कर दिया। एक ऐसे मुक़ाम पर पहुँचे कि ख़ुद शाहरुख़ ने उन्हें गले लगा लिया।

चुग़ली बाज़

चुग़ली बाज़

Leave a Reply

Your email address will not be published.

error: Content is protected !!