सुशांत सिंह राजपूत सुसा’इड के’स में उनके पिता के FIR करने के बाद से नया मो’ड़ आ गया है और जाँ’च की पूरी दिशा घू’म गयी है। अब इस के’स में रिया चक्रवर्ती के ख़िला’फ़ कई इल्ज़ा’म हैं। रिया पर सबसे बड़ा इल्ज़ा’म है सुशांत के पैसों के ग़’बन का। साथ ही उन पर सुशांत को उनके परिवा’र से न मिलने देने और ब्लै’कमे’लिंग का आरो’प भी ल’गा है। यही नहीं रिया पर एक आरो’प ये भी है कि उन्होंने सुशांत को आ’त्मह’त्या के लिए उक’साया। इन सभी माम’लों की जाँ’च करने के लिए पटना पु’लिस मुंबई आयी तो वो रिया से मिल नहीं पायी और न ही उनसे पू’छताछ में ही सफ’ल हो पायी। अब जबकि ये जाँ’च CBI के हाथों में चली गयी है तो इस माम’ले में क’ड़ाई से जाँ’च शुरू की गयी है।

रिया चक्रवर्ती, उनके भाई शौविक चक्रवर्ती, रिया के CA रितेश शाह और सुशांत की पुरानी मैनेजर श्रुति मोदी को जाँ’च के लिए ED ने अपने ऑफ़िस पे’श होने के लिए स’मन भेजा था। ऐसे में रिया ने ये कहा था कि उनके अपी’ल की सुन’वाई सुप्रीम को’र्ट में होनी बाक़ी है इसलिए उन्हें अपना ब’यान देने की और पू’छताछ के लिए आने के लिए और वक़्त दिया जाए। लेकिन ED ने रिया की बात नहीं मा’नी और उन्हें बताए समय में ही पे’श होने के लिए कहा। इसके बाद रिया आज ED दफ़्तर में पहुँची, जहाँ उनके भाई को दो घंटे की पू’छताछ के बाद जा’ने दिया गया और बाक़ी दो को भी आठ घंटे बाद छो’ड़ दिया गया लेकिन रिया से पू’छताछ अभी भी जा’री है। वहीं रिया के भाई भी लौ’टकर आए और उन्हें एक बार और पू’छताछ के लिए ले जाया गया है।

Rhea with Brother Shovik
अब तक मिली जा’नकारी के अनुसार रिया इस जाँ’च में अपना पूरा सहयोग नहीं दे रही हैं। उन्हें उनकी दो स’म्पत्तियों के काग़’ज़ात लेकर ED ऑफ़िस आने के लिए कहा गया था लेकिन वो उनके बि’ना ही आयीं। भी’तरी जा’नकारी के अनु’सार रिया पू’छताछ के दौ’रान पूछे जा रहे सवा’लों का जवाब भी ठीक तरह से नहीं दे रही हैं। वो अधिकांश सवा’ल का जवाब ये कहकर टा’ल रही हैं कि उन्हें उन घ’टनाओं के बारे में सि’लसिलेवा’र ढंग से कुछ याद नहीं आ पा रहा है। इस बारे में सुशांत के वक़ील विकास सिंह का कहना है कि अगर रिया इस तरह ही ED के सवा’लों को टा’लती रहीं तो उन्हें गिर’फ़्तार भी किया जा सकता है। इस के’स से जुड़ी ताज़ा जा’नकारियों के लिए पढ़ते रहिए चुग़लीबाज़।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *