साल 1993 में आई फिल्म ‘बाजीगर’ शाहरुख खा’न की एक बड़ी फिल्म बनकर उभरी थी। फिल्म ने कई अवॉर्ड भी जीते थे, आपको बता दें कि इस फिल्म में नेगेटिव किरदार को निभाने के लिए शाहरुख खा’न से पहले कई और कलाकारों को ये किरदार ऑफर किया गया था। लेकिन सबने इसको निभाने से इं’कार कर दिया था। इन सभी किरदारों का मानना था कि नेगेटिव किरदार होने के कारण उनके करियर पर बु’रा प्रभाव पड़ेगा। लेकिन कौ’न जानता था कि ये ही किरदार कलाकार की किस्मत बदल देगा।

इस फिल्म से सिर्फ शाहरुख खा’न ही नहीं बल्कि काजोल और शिल्पा शेट्टी भी उभरकर सामने आई थीं। आपको बता दें कि इस शाहरुख और काजोल की साथ में पहली फिल्म थी। गोरतलब हैं कि शिल्पा शेट्टी ने भी इस फिल्म के जरिए बॉलीवुड में डेब्यू किया था। लेकिन इसके बाद उनको भी कई फिल्में ऑफर हुई। तो चलिए जानते हैं इस किरदार को शाहरुख से पहले किसको ऑफर किया गया था।

फिल्म के निर्देशक अब्बास मस्तान ने सबसे पहले इस फिल्म के लिए अनिल कपूर को चुना था। लेकिन अनिल कुमार ने इसको निभाने के लिए मना कर दिया था। जिसके बाद ये किरदार अक्षय कुमार को ऑफर किया गया। क्योंकि इससे पहले अक्षय कुमार, अब्बास की सुपरहिट फिल्म ‘खिलाड़ी’ में काफी पसंद किए गया थे। लेकिन शुरुआती करियर का हवाला देते हुए अक्षय कुमार ने भी इस किरदार को निभाने से इंका’र कर दिया था।

अक्षय कुमार द्वारा इस किरदार को ठु’कराने के बाद अब्बास बॉलीवुड एक्टर सलमान खा’न के पास पहुंचे थे। लेकिन वो समय ऐसा था जब सलमान अपनी फिल्म अपने पिता सलीम के कहने पर किया करते थे। लेकिन उनके पिता को ये किरदार बिलकुल पसंद नहीं आया। उन्होंने इस किरदार को ठु’करा दिया लेकिन उन्होंने अब्बास को एक सलाह दी थी।

बता दें कि फिल्म में पहले राखी का किरदार नहीं रखा गया था। लेकिन सलीम ने उनकी सलाह दी थी कि फिल्म में मां का किरदार रखा जाए और दिखाया जाए कि हीरो अपनी मां और परिवार के लिए ह’त्या करता है। जिसके बाद इस किरदार को निभाने के लिए शाहरुख खुद तैयार हुए और अब्बास ने उनके ये किरदार निभाने का मौका दिया। इसके साथ ही सलमान के पिता की सलाह को ध्यान में रखते हुए उन्होंने मां का एंगल भी जोड़ा।

error: Content is protected !!