मुंबई: आर्यन ख़ान, अरबाज़ ख़ान मर्चंट, मुनमुन धमेचा और चार अन्य आरोपियों को आज मुंबई की एक अदाल’त ने ज़मा’नत नहीं दी है. आर्यन ख़ान के वकील सतीश मानशिंदे ने अदा’लत से कहा कि वह अपने मुवक्किल के लिए अंतरिम बेल के लिए अप्लाई कर रहे हैं. अ’दालत ने हालाँकि NCB क’स्टडी नहीं बढ़ाई है और सभी आरोपियों को 14 दिन की न्यायिक हिरासत में भेज दिया गया है.

मानशिंदे ने अदाल’त से मांग की कि सभी आरोपियों को अभी NCB की ही कस्ट’डी में रखा जाए क्यूँकि जेल ऑथोरिटीज़ शाम 6 बजे के बाद क़ैदियों को नहीं एक्सेप्ट करती है. अ’दालत ने कहा,”ज़ोनल डायरेक्टर (समीर वानखेड़े) से आग्रह किया जाता है कि वह आरोपी को NCB में ही रखे क्यूँकि जेल ऑथोरिटीज़ 6 बजे के बाद किसी को बिना कोरोना रिपोर्ट के एक्सेप्ट नहीं करती, इसलिए वे NCB के ही साथ रहें.”

साथ ही अदा’लत ने कहा है कि शुक्रवार सुबह 11 बजे उनकी अंतरिम ज़’मानत पर सुनवाई की जाएगी. उल्लेखनीय है कि NCB ने सोमवार तक की कस्ट’डी माँगी थी लेकिन अदा’लत ने उनकी इस मांग को अस्वीकार कर दिया. एएसजी अनिल सिंह ने कहा था,”ये सभी सीआर 94/2021 से जुड़े हैं. पहली नजर में लगता है कि ये सभी एक साजिश का हिस्सा हैं. इस मामले में कुल 17 लोगों को गिर’फ्तार किया गया है. एनसीबी ने अचित कुमार नाम के एक व्यक्ति को भी ड्र’ग के साथ गिरफ्ता’र किया है. इस आरोपी का संबंध आर्यन खान से था.”

उन्होंने आगे कहा,”अरबाज़ की जांच में भी उस शख्स का नाम सामने आया था. अचित से इनका आमना-सामना जरूरी, इसलिए हिरासत की जरूरत. 6 अक्टूबर को 4 लोगों को क्रूज से गि’रफ्तार किया गया ये आयोजक थे. सभी हिरासत में हैं और इन आरोपियों के साथ उनका आमना सामना भी आवश्यक है.”

इस पर आर्यन ख़ान के वकील ने कहा, “एनसीबी हिरासत ग़ैर ज़रूरी है. मामला हमेशा से यह रहा है कि हम मुख्य आरोपी तक पहुंचना चाहते हैं. उन्हें तब तक के लिए बंधक बनाकर नहीं रखा जा सकता, जब तक कि वे उनकी जांच करें और उन्हें गिर’फ्तार कर लें. आरोपी 1, 2 और 3 के खिलाफ आरोप पहले रिमांड आवेदन के समान ही हैं.”

आर्यन के वकील सतीश मानेशिंदे ने उनकी ओर से कहा,”मैं क्रूज़ पर नहीं था. नीचे ही मेरा फ़ोन ले लिया और पंच मुझे एनसीबी कार्यालय ले आए. मेरे मोबाइल पर उन्हें जो मिला, उसके आधार पर मुझे गि’रफ्तार कर लिया गया. मेरा आयोजकों से कोई संबंध नहीं है, अरबाज दोस्त हैं लेकिन मैं उसकी गतिविधियों से जुड़ा नहीं हूं.”

सुनवाई के दौरान अचित कुमार के वकील ने कहा, “मैं उन्हें बेईमान कहने से रोकूंगा. वे कह रहे हैं कि मैं सप्लायर्स का हिस्सा हूं. उन्होंने मेरे पास से क्या पाया है? उन्होंने पहले ही मेरे मुवक्किल का आरोपी नंबर 1 से आमना सामना कराया है. उन्होंने मेरे पास से 2.6 ग्राम जब्त किया है. मेरी समझ से मुझे न्यायिक हिरासत दी जा सकती है.”

मुनमुन धमेचा की ओर से वकील काशिफ़ ख़ान ने कहा,”क्या मुझे अचित कुमार की गि’रफ़्तारी से कोई चिंता है? मेरा उस आरोपी से कोई संबंध नहीं है. रिमांड आवेदन मेरी भूमिका पर चुप है. स्क्रीनिंग के दौरान मेरे पास से कुछ भी नहीं मिला. मुझे तलाशी के समय का सीसीटीवी फुटेज चाहिए. कथित ड्र’ग्स फर्श पर मिला था.”

error: Content is protected !!