कहा जाता है कि भारत एक ऐसा देश है जहां म’हिलाओं को उच्च स्थान दिया जाता है। यहां ल’ड़कियों को लक्ष्मी समझकर उनकी पूजा की जाती है। उन्हें आज समाज में ल’ड़कों के बराबर दर्जा दिया जाता है, लेकिन क्या यह वाकई सच है? यह सवाल आज हर किसी के मन में उठ रहा होगा और उठे भी क्यों ना। क्योंकि समाज और सरकार जो लड़’के और ल’ड़कियों के एक समान होने का दावा करती है वो मह’ज सिर्फ कहने के लिए ही है। इसका अंदाजा इसी बात से लगाया जा सकता है कि आज भी जब किसी के घर ल’ड़का पैदा होता है तो लोग उसकी खुशी जोरों-शोरों से मनाते हैं, लेकिन यदि ल’ड़की पैदा होती है तो माहौल शो’क या किसी मा’तम से कम नहीं होता।

यही नहीं बल्कि म’हिलाओं को पूजने वाले भारत देश में आज लकड़ियां सुर’क्षित भी नहीं है। यहां हर रोज़ किसी ना किसी म’हिला के साथ रे’प, डोमे’स्टिक वॉय’लेंस, यौ’न उत्पी’ड़न जैसे कई माम’ले साम’ने आते हैं। हाल ही में हाथरस और बलरामपुर से भी गैंग’रेप के माम’ले साम’ने आए हैं, जिसने पूरे देश को ही हिलाकर रख दिया है। आम लोगों ही नहीं बड़े-बड़े सितारें भी इसपर गु’स्सा जा’हिर करते नजर आ रहे हैं। इसी बीच बॉलीवुड की मशहूर एक्ट्रेस अनुष्का शर्मा ने भी इन माम’लों पर नारा’जगी जताई है। उन्होंने सोशल मीडिया पर एक पोस्ट शेयर किया है और लोगों की मान’सिकता पर सवाल उठाए हैं।
Anushka-Virat
जल्द ही मां बनने वाली अनुष्का शर्मा ने बेबा’क अंदाज़ में कहा है कि क्या बेटा होना ही ‘विशेषाधिकार’ है?। उन्होंने पोस्ट में आगे लिखा, “हमारे समाज में एक पुरुष बच्चे को ‘विशेषाधिकार’ के रूप में देखा जाता है। बे’शक, लड़की होने से ज्यादा मान और किसी में नहीं है, लेकिन तथ्य यह है कि इस तथाकथित विशेषाधिकार को गल’त तरीके से और बहुत ही पुरानी नज़’रिए के साथ देखा गया है। जिस चीज में विशेषाधिकार है वह इसमें कि आप अपने ल’ड़के को सही परवरिश दें ताकि वह लड़कियों की इज्जत करे। समाज के प्रति पैरें’ट होने के नाते यह आपकी जिम्मेदारी है। इसलिए इसे विशेषाधिकार न समझें।”

अनुष्का आगे लिखती हैं, “बच्चे का जें’डर आपको विशेषाधिकार या प्रति’ष्ठ‍ित नहीं बनाता पर यह असल में समाज के प्रति आपकी जिम्मे’दारी है कि आप अपने बेटे को ऐसी परवरिश दें कि एक महिला यहां सुरक्षित महसूस करे।” इससे पहले भी अनुष्का शर्मा का हाथरस में हुए रे’प के’स पर गु’स्सा देखा गया था। उन्होंने कहा था, “अभी कुछ ही समय गुजरा था और हम एक और दिल दहला देने वाली क्रू’र रे’प के बारे में सुन रहे हैं। कौन हैं वे रा’क्षस जो एक मासूम की जिंदगी तबा’ह करने के बारे में सोचते हैं।”