जया बच्चन के ब’यान से फिर तिलमि’लायी कंगना, अब कर दी ये बड़ी ग़’लती

इन दिनों बॉलीवुड में एक अल’ग ही मु’द्दा गर’माया रहा है कंगना र’णावत ने जिस तरह बॉलीवुड पर सवा’ल उठाए और ब’यान दिया कि यहाँ क़रीब 90% लोग ड्र’ग्स लेते हैं। वहीं मुंबई को उन्होंने POK क़रा’र दिया इसके बाद से ही फ़िल्मी दुनिया के लोगों के बीच कंगना के विरो’ध में स्वर गूँजे। इसी बीच जब सांसद रवि किशन ने बॉलीवुड को ड्र’ग्स में लि’प्त बताया तो उनके जवा’ब में जया बच्चन ने भी संसद में ये कहा कि कुछ लोगों के ख़रा’ब होने से पूरी इंडस्ट्री को ख़रा’ब नहीं कहा जा सकता।

जया बच्चन ने आगे इंडस्ट्री से जु’ड़े लोगों के ही इस तरह के ब’यानों पर कहा ” जिस थाली में खाते हो उसी में छे’द करते हो” ये बात कंगना को इस तरह से ना’गवार गुज़’री कि उन्होंने जया बच्चन पर व्यक्तिगत हम’ला शुरू कर दिया। कंगना ने जया बच्चन पर निशा’ना सा’धते हुए कहा कि उन्हें बॉलीवुड ने किसी भी तरह की कोई थाली नहीं दी है उन्होंने अपने द’म पर सब हा’सिल किया है। यहाँ तक कि कंगना ने कहा कि दो मिनट के आइ’टम नम्बर के लिए भी यहाँ हीरो के साथ सोना होता है।

Ravi- Kangna
कंगना के ऐसे ब’यानों का जया की ओर से तो कोई जवा’ब नहीं आया लेकिन कई सितारों ने कंगना को आ’ड़े हाथों लिया। वहीं मुकेश खन्ना और रणवीर शौ’री जैसे सितारों ने कंगना की तर’फ़दारी करते हुए जया बच्चन को कहा कि उन्हें किसी भी तरह की थाली बॉलीवुड ने नहीं दी। शायद सभी सितारे ये भू’ल रहे हैं कि यहाँ जया बच्चन की कही कहावत का अर्थ ये नहीं था कि उन्होंने या स्टार्स ने किसी को कोई थाली स’जाकर दी है बल्कि उनके कहने का मतलब था कि जो भी यहाँ सितारे बने हैं वो बॉलीवुड के कार’ण ही अपना नाम क’माएँ हैं।

ऐसे में उनकी नाम और शोहर’त का ज़रिया बॉलीवुड ही है यानी कि उनकी रो’ज़ी- रोटी बॉलीवुड से चल रही है इसका सीधा अर्थ हुआ कि वो बॉलीवुड में कमाई रक़’म से घर चला रहे है ऐसे में बॉलीवुड से मिली थाली में खाना खाने जैसी कहावत उन्होंने कही जिसका अर्थ था कि आप जहाँ से नाम और पैसे कमा रहे हैं उस इंडस्ट्री की इज़्ज़त करें अपने काम की इज़्ज़त करें। लेकिन जिस तरह से अधिकांश सितारे अपनी स्क्रिप्ट हिंदी में नहीं बल्कि रो’मन लिपि में पढ़ते हैं वो शायद हिंदी को और हिंदी कहावत को उतना ही समझते हैं जिससे अर्थ का अन’र्थ आसा’नी से हो पाए।

Jaya Bachchan
हिंदी दिवस पर ज़रूर हिंदी में पोस्ट लिखकर शुभकामनाएँ देते हैं लेकिन हिंदी को अब तक सम’झने में ना’काम हैं। कंगना ने भी इस कहावत का अर्थ सम’झने में ग़ल’ती कर दी। बह’रहाल कंगना इस पर भी नहीं रु’की उन्होंने जया बच्चन पर व्यक्तिगत हम’ला सा’धते हुए ये तक कहा कि अगर उनकी बेटी श्वेता को टीन एज में ड्र’ग देकर, मा’रा और शो’षित किया जाता या उनके बेटे अभिषेक उनसे कहते कि उन्हें ड’राया धम’काया जा रहा है और वो किसी दिन आ’त्मह’त्या कर लेते?तो भी क्या आप ऐसा ही कहतीं..हमारे प्रति भी सहा’नुभूति रखिए”

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *