मुम्बई: कोरोना वायरस ने लोगों की ज़िन्दगी को पूरी तरह से बदल दिया है. स्थिति ये है कि अगर कोई आपसे दूर है तो आपके ही किसी ख़ास इंसान का क्या हाल है इसका भी लोगों को पता नहीं लग पा रहा है. ख़बर है कि जिस रोज़ प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने ‘जनता कर्फ्यू’ का एलान किया था उसी दिन फ़िल्म ‘कुछ कुछ होता है’ में काम कर चुकीं अभिनेत्री सना सईद के पिता का नि’धन हो गया था.

कोरोना वायरस के चलते हवाई सेवा बंद होने की वजह से वो अपने पिता के जनाज़े में नहीं शामिल हो सकीं, वो उस समय अमरीका में थीं. उन्होंने अपने पिता के अंतिम संस्कार में वीडियो कॉल के ज़रिए अपनी शिरकत दिखाई. इस बात का पता तब चला जब उनसे टाइम्स ऑफ़ इंडिया पत्रकार ने इंटरव्यू किया. उन्होंने बताया वह उन दिनों लॉस एंजिलिस एक इवेंट में शामिल होने गई थीं, लेकिन यात्रा प्रतिबंधों के कारण वह वहां से नहीं लौट पाई थीं.

इस बारे में बात करते हुए सना ने कहा,”इस खबर को झे’लना मेरे लिए काफी मुश्किल था. इससे पहले से ही मैं आइसोलेशन में थीं और मेरे साथ कोई नहीं था. यह मेरे लिए बहुत ही कठिन और बहुत ही बुरा था.” उन्होंने बताया कि उनके पिता शुगर के मरीज़ थे. उन्होंने बताया कि वो ठीक हो गए थे और घर भी आ गए थे.

उन्होंने आगे कहा,”वह आख़िरी के कुछ महीनों में बीमार पड़ गए और हॉस्पिटल में भी भर्ती हो गए. हालांकि, कुछ दिनों बाद उनकी हालत स्थिर हो गई थी और वह घर लौट आए थे. वरना मैं उनका साथ नहीं छोड़ती. यहां तक कि मैंने आखिरी के महीनों में कुछ काम भी नहीं लिया था, क्योंकि मैं अपने पिता के साथ रहना चाहती थी.”

सना ने बताया कि पिछले कुछ वक़्त में उन्होंने ख़ुद को दुनिया से अलग कर लिया था और परिवार के साथ ज़्यादा वक़्त बिताने लगी थीं.उन्होंने कहा,” मैं उनके साथ रहना चाहती थी और उन्हें गले लगाना चाहती थी. हर समय मैं उदास रहती थी. मैं अपने पिता से बहुत प्यार करती थी. लेकिन मुझे इस तथ्य पर आना ही पड़ा कि मैं अपने पिता के अंतिम संस्कार के लिए उपस्थित नहीं हो सकती हूं. मैं इस स्थिति से लड़ने की बजाय शांति से काम करने के बारे में सोचा.”

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *