बचपन को हर फ़ि’क्र और मुश्कि’लों से दू’र यूँ ही नहीं कहा जाता, बच्चे बेह’द मा’सूम तो होते ही हैं साथ ही ज़’रा से नटख’ट भी होते हैं लेकिन उनके बचपने में कई बार ऐसा नुक़’सान हो जाता है कि क्या कहा जाए? एक ऐसा ही क़ि’स्सा हम लेकर आए हैं आज आपके लिए ये बात है सलमान ख़ा’न की। जी हाँ बॉलीवुड के दबं’ग सलमान पहले अपनी माँ के साथ इंदौर में रहा करते थे और उनके पिता सलीम ख़ा’न मुंबई में रहा करते थे। सलीम ख़ा’न उनसे मि’लने जाते रहा करते थे

बचपन में ही सलमान ने अपने पापा सलीम ख़ा’न का बड़ा नुक़’सान कर दिया था। ये बात है दिवाली की सलमान अपने भाई बहनों के साथ बाह’र काग़ज़ से प’टाखे ज’ला रहे थे और अचा’नक उनके पास काग़ज़ ख़’त्म हो गया तो बस सलमान दौ’ड़ते हुए घर के अं’दर गए और उन्होंने अंद’र जाकर सलीम ख़ा’न के टेब’ल के ऊपर से काग़ज़ का बं’डल उ’ठाया और पहुँच गए भाई बहनों के पास एक-एक करके सभी ने उस बं’डल से काग़ज़ निका’लकर प’टाखे ज’ला लिए।

Salman with Salim Khan
बाद में जब सलीम ख़ा’न आए तो उन्होंने देखा कि उनकी सेलरी के पूरे 750 रुपए टेबल के ऊपर से ग़ा’यब हैं। देखने पर पता चला कि उनकी सेलरी के नोटों को बच्चों ने काग़ज़ सम’झकर ज’ला दिया। इस बात पर ग़ु’स्सा न करते हुए सलीम ख़ा’न ने अपने बच्चों ख़ा’सकर बड़े बेटे सलमान को अच्छी तरह पैसों की अहमि’यत सम’झायी। इसके बाद सलमान ने कभी ऐसा कुछ नहीं किया। वैसे सलमान बताते हैं कि उनके पिता ने उन पर कभी हाथ नहीं उ’ठाया लेकिन एक बार जो वो बात करने को भी बुला लें तो उनकी सि’ट्टी पि’ट्टी गु’म हो जाती हैं और ऐसा आज भी होता है। यही नहीं सलमान अपनी पूरी क’माई अपने पिता को ही देते हैं और उनसे एक नि’श्चित रक़’म पॉकेट मनी के तौ’र पर लेते हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *