मुम्बई: मशहूर फ़िल्म अभिनेता इरफ़ान ख़ान के नि’धन से सभी लोगों को एक झटका सा लगा है. 53 वर्ष की उम्र में इरफ़ान ने अपनी अंतिम साँस ली. उन्हें कैं’सर था और इस सिलसिले में उनका इ’लाज अमरीका में हुआ था. 2018 में उन्हें इस बात की जानकारी हुई कि उन्हें कैं’सर है, अमरीका में इला’ज के बाद वो स्वस्थ हो गए थे और वापिस आकर मुंबई में रहने लगे थे. पिछले साल उन्होंने फ़िल्म ‘अंग्रेज़ी मीडियम’ की शूटिंग की और इस वर्ष मार्च में फ़िल्म रिलीज़ होनी थी.

फ़रवरी में जब फ़िल्म का प्रमोशन शुरू होने ही वाला था तो इरफ़ान ने एक ऑडियो मैसेज दिया जिससे ऐसा लगा कि इरफ़ान की बीमा’री फिर से उभर आयी है. अंग्रेज़ी मीडियम फ़िल्म के रिलीज़ होने से पहले ही कोरोना वायरस को लेकर चिंताएं बढ़ने लगीं और ये फ़िल्म थिएटर में रिलीज़ नहीं हो सकी लेकिन मोबाइल प्लेटफ़ॉर्म पर फ़िल्म रिलीज़ हुई. इरफ़ान जब अमरीका से इ’लाज कराकर लौटे थे और इसी फ़िल्म की शूटिंग में व्यस्त थे तभी एक इंटरव्यू उनका हुआ था.

इस इंटरव्यू में जब उनसे उनकी बी’मारी से जं’ग को लेकर बात चली तो उन्होंने कहा कि ये जो दौर था वो मेरे लिए रोलर कोस्टर राइड जैसा था.. हम थोड़ा रोए, लेकिन बहुत हँसे भी.. मुझे बहुत बेचैनी होती थी, लेकिन मैंने उसे बाद में कंट्रोल कर लिया था. उन्होंने बताया कि अच्छी बात ये हुई कि इस दौरान वो बच्चों के साथ ज़्यादा वक़्त रहे. उन्होंने अपनी पत्नी सुतापा सिकदर की तारीफ़ करते हुए कहा थे कि अपनी पत्नी सुतापा को लेकर तो मैं क्या ही कहूं… वह 24 घंटे मेरे साथ रहती हैं.

उन्होंने कहा कि वो हमेशा मेरा ध्यान रखतीं… अगर मुझे जीने का मौक़ा मिला तो मैं उसके लिए जीना चाहूँगा.. मैं अगर अभी तक हूँ तो उसकी बड़ी वजह मेरी पत्नी है. इरफ़ान ने अपने लम्बे करीयर में कई शानदार भूमिकाएं निभायीं. उनके बारे में कहा जाता है कि वो इस दौर के सबसे अच्छे कलाकारों में से एक थे. उनके बारे में शाहरुख़ ख़ान ने कहा कि ‘मेरे दोस्त, एक प्रेरणा और हमारे समय के सबसे महान कलाकारों में से एक… अल्लाह आपकी रूह को सुकून बख्शे… हम आपको उतना ही याद करेंगे जितना इस बात पर फक्र करेंगे कि आप हमारी जिंदगी का हिस्सा रहे हो। पैमाना कहे है कोई, मैखाना कहे है दुनिया तेरी आंखों को भी, क्या क्या ना कहे है” Love u’.