कंगना रणावत इस मामले में काफ़ी फ़ेमस हैं कि वो जिस फ़िल्म में काम करती है उस फ़िल्म में अपने काम के साथ-साथ कई सारे क्रेडिट अपने नाम कर लेती हैं। एक ऐसी ही बात कंगना की फ़िल्म के डायरेक्टर ने कही है उन्होंने बताया कि कंगना की 2017 में आयी फ़िल्म में उनके साथ काम करना कितना मुश्किल रहा। यहाँ बात कंगना की फ़िल्म सिमरन के डायरेक्टर हंसल मेहता की है जिन्होंने ये तक कह दिया कि उन्हें कई बार लगता है कि उन्हें ये फ़िल्म बनानी ही नहीं चाहिए थी।

इस फ़िल्म से कई कोंट्रोवरसी जुड़ी यही नहीं कंगना ने ये तक कहा था कि फ़िल्म की स्क्रिप्ट में उन्होंने काफ़ी बदलाव किए थे। हंसल मेहता ने ये कहा कि इस फ़िल्म में काम करना दर्दनाक अनुभव था लेकिन कंगना के साथ काम करने के लिए वो ये बात नहीं कहते। हालाँकि सिमरन के राइटर और एडिटर अपूर्व असरानी ज़रूर ये कहते हैं कि उनके काम का काफ़ी क्रेडिट कंगना ने अपने नाम कर लिया। हंसल मेहता ने इस फ़िल्म के बारे में अपने अनुभव बाँटते हुए बताया कि, “कई बार लगता है मैंने ये फ़िल्म बनायी ही नहीं होती तो अच्छा होता इसकी ज़रूरत ही नहीं थी। इस फ़िल्म ने मेरे करियर में एक अलग ही रुकावट ला दी।”

Kangana- Hansal Mehta
आगे हंसल मेहता ने कहा “इससे मुझे दुःख भी हुआ ये फ़िल्म काफ़ी अच्छी बन सकती थी इस फ़िल्म में काफ़ी दम था लेकिन मुझे ये बाद दुःख देती है कि अब ये मुझे एक दर्दनाक वक़्त की तरह याद है। उससे भी मुश्किल ये है कि इस बारे में बात करना। इस फ़िल्म से जुड़ी यादों को मैं याद भी नहीं करना चाहता। फ़िल्म के बाद मैं ऐसे लो फ़ेस में चला गया था कि मुझे थेरेपी का सहारा भी लेना पड़ा। इस फ़िल्म ने मुझे मानसिक रूप से प्रभावित किया।

हंसल इस बारे में कहते हैं, “मैं एक शेल में चला गया था लोगों से मिलना मुझसे पसंद नहीं आता था। मैं अपने सबसे कम आत्मविश्वास वाले दौर में था जहाँ मुझे ख़ुद पर ही भरोसा नहीं रह गया था। मैं ईमानदारी से कहूँगा कि मुझे कंगना सेट के बाहर बेहद पसंद हैं हम बाहर जाकर खाना खाते थे, वो मेरे फ़ेवरेट खाने के बारे में पूछती, रेस्टोरेंट चुनने कहती थी। हम साथ खाते, पार्टी करते थे। ये सब बहुत अच्छा होता था। लेकिन सेट में सब बदल जाता है, कई बार सिचुएशन मेरे हाथ से निकल जाती थी जो कि बिलकुल सही नहीं है।”

Kangana
आगे हंसल कंगना का सेट पर रवैया बताते हुए कहते हैं कि “सेट पर कंगना जैसे सब कुछ अपने कंट्रोल में ले लेती हैं वो दूसरे ऐक्टर्ज़ को डायरेक्ट करने लगती हैं। मेरा पैसों का भी काफ़ी नुक़सान हो गया जिसमें कंगना का कोई हाथ नहीं है। सिमरन के दौरान मैंने कुछ ऐसे पेपर्स साइन कर दिए जिसके कारण मुझे काफ़ी नुक़सान उठाना पड़ा। करीं डेढ़ साल तक मुझे कोर्ट के चक्कर लगाने पड़े। लेकिन मुझे वापस आना ही था आपको उन सारी परिस्थितियों से गुज़रना ही पड़ता है जो आपके लिए तय हैं, वो बड़ा कठिन वक़्त था।” इन दिनों हंसल मेहता की सीरिज़ “स्कैम 1992” काफ़ी हिट हो रही है।