फिल्म इंड’स्ट्री में हर साल कई लोग एक्टर बनने का सपना लिए मुंबई आते हैं। इसमें से कुछ ही ऐसे लोग होते हैं जो सफ’लता हा’सिल कर ऊंचे मु’काम पर पहुंचते हैं। ऐसे ही एक एक्टर है अक्षय कुमार। यूं तो अक्षय कभी एक्टर बनना ही नहीं चाहते थे, लेकिन उनकी कि’स्मत उनके लिए कुछ और ही चाहती थी। यही व’जह है कि आज वह बॉलीवुड का जा’ना माना नाम हैं। आज बॉलीवुड के खिला’ड़ी अक्षय कुमार उन एक्ट’र्स में शुमा’र किए जाते हैं, जिन्होंने अपने द’म पर फिल्म इंड’स्ट्री में नाम कमा’कर एक ख़ास मु’काम बनाया है।

अक्षय कुमार ने साल 1991 में आई फिल्म सौगं’ध से अपने फिल्मी करि’यर की शुरुआत की थी। इसके बाद ही उन्होंने और भी कई बड़ी बड़ी फिल्में दी। यूं तो अक्षय को एक्श’न हीरो के तौ’र पर जाना जाता है, लेकिन इसके अला’वा भी उन्होंने हर तरह का किरदार निभा’या है। रोमां’टिक किरदार हो या नेगे’टिव, हर किरदार में उन्होंने अपनी एक्टिं’ग से जा’न भर दी। वैसे तो अक्षय ने कई ब्लॉ’क ब’स्टर फिल्में दी हैं, लेकिन एक समय ऐसा भी था जब उनका करि’यर ख’त्म होने की कगा’र पर आ गया था। एक के बाद एक उनकी फिल्में फ्लॉ’प होती जा रही थीं।

Akshay Kumar
एक अवॉर्ड शो में अक्षय ने खुद बताया था कि “एक समय ऐसा आया था जब मेरी 17 फिल्में फ्लॉ’प हुई थीं। इसके बाद मुझे लगा कि एक एक्टर के रूप में मेरा करि’यर ख’त्म होने लगा है। मैंने 17 फ्लॉ’प फिल्मों से बहुत कुछ सीखा है। मैं उस वक्त हा’रा हुआ मह’सूस कर रहा था लेकिन उस वक्त मेरी मा’र्शल आ’र्ट की ट्रे’निंग मेरे काम आई। ये ट्रे’निंग आपको अनुशा’सन में रहना सिखा’ती है।” ‘तीस मा’र खा’न’, ‘जोकर’, ‘ए’क्शन रीप्ले’, ‘कम्ब’ख्त इश्क’, ‘बॉस’, ‘खिलाड़ी 786’, ‘ब्लू’, ‘पटियाला हाउस’ कुछ ऐसी फिल्में हैं जो बॉक्स ऑफिस पर अपना कमा’ल नहीं दिखा पाईं। ऐसे में भी अक्षय ने हा’र नहीं मानी और मेहनत कर दो’बारा फिल्म इंडस्ट्री में अपने नाम का झंडा गा’ड़ा।