सुशांत सिंह राजपूत ने जबसे आ’त्मह’त्या की है तब से हिंदी फ़िल्म इंडस्ट्री में ये मु’द्दा छि’ड़ गया है कि यहाँ बाहर से आये हुए लोगों के साथ अच्छा व्यवहार नहीं किया जाता है और उन्हें मिलने वाले मौ’क़े कम होते हैं। इस बारे में कई सितारे खुलकर बोलते नज़र आ रहे हैं जो इंडस्ट्री में आउ’टसाइ’डर रहे हैं, वहीं स्टार या स्टार किड्ज़ का कहना है कि उनके लिए भी लोगों का अल’ग ही रवैया रहता है भले ही उन्हें कुछ मौ’क़े आसानी से मिल जाते हैं लेकिन ऑडीयन्स उन्हें उनके स्टार माता-पिता के काम पर तौ’लती है, इसलिए उन पर एक अलग तरह का प्रे’शर रहता है।

बह’रहा’ल इस पूरे मुद्दे में सुशांत के फ़ैन्स ने फ़िल्मी सितारों को सोशल मीडिया में इस तरह ट्रो’ल किया कि कइयों ने सोशल मीडिया को छो’ड़ दिया या फिर अपने कमेंट्स ऑप्शन ही बं’द कर दिए। इस मामले में अब एक नया मोड़ आ गया जब अनुराग कश्यप ने सुशांत को लेकर कुछ ऐसे सच ब’यान किए जिससे उनका आउ’टसाइ’डर वाला माम’ला ही ख़ा’रिज होता नज़र आ रहा है। अनुराग कश्यप ने कहा कि आउ’टसाइ’डर ख़ुद भी बड़े बैनर में बनी फ़िल्मों में ही काम करना चाहते हैं वो ख़ुद किसी आउ’टसाइ’डर का साथ नहीं देते। ये कहते हुए अनुराग ने सुशांत को लेकर कई बातें ब’यान की।

Anurag Kashyap
अनुराग ने कहा कि “सुशांत को यशराज की ओर से कॉल आया और उसे शुद्ध देसी रोमांस करने की डी’ल मिली। सुशांत जो मेरे ऑफ़िस में मुकेश छाबड़ा के साथ बैठा करता था, उसने तुरंत यशराज के साथ डी’ल सा’इन कर ली और एक आउ’टसाइ’डर की फ़िल्म “हँसी तो फँसी” को छो’ड़ दिया क्योंकि उसको भी यशराज का वैलि’डेशन चाहिए था। यही सभी ऐक्टर के साथ है, इसलिए मुझे कोई शिका’यत नहीं है”। जैसा कि सभी जानते हैं कि हँसी तो फँसी में परिणती के साथ सिद्धार्थ मल्होत्रा को लिया गया। जबकि सुशांत ने यशराज के साथ डी’ल करके शुद्ध देसी रोमांस में काम किया।

यही नहीं अनुराग ने बाद में फिर सुशांत को एक फ़िल्म का ऑ’फ़र दिया पर उस पर भी सुशांत ने कोई रि’स्पोंस नहीं किया। अनुराग ने इस बारे में बताया कि “इस बात के एक साल बाद 2016 में MS धोनी फ़िल्म की री’लिज़ के पहले मुकेश सुशांत के पास गए थे और उन्होंने सुशांत से बताया कि अनुराग ने एक स्क्रिप्ट लिखी है और एक ऐसा ऐक्टर ढूँढ रहे हैं जो उत्तर प्रदेश के लड़के का किर’दार नि’भा सके’ धोनी रीलिज़ हो गयी, ख़ूब हि’ट रही और सुशांत ने मुझे कभी कॉ’ल नहीं किया। मैं परे’शान नहीं हुआ, बल्कि आगे बढ़ गया और मैंने मु’क्केबा’ज़ बनायी”

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *