दीपिका पादुकोण की फ़िल्म छपाक रीलिज़ होने से पहले ही सुर्ख़ियो में आ गयी है। दरअसल दीपिका फ़िल्म प्रमोशन में दिल्ली। गयी थीं तो उन्होंने वहाँ JNU में हुई हिं’सा के वि’रोध में स’मर्थन ज़ाहिर करने के लिए JNU में चल रहे प्रदर्शन में शिरकत की। यूँ तो दीपिका वहाँ बहुत कम ही समय के लिए रुकी लेकिन उनकी फ़िल्म को बायकॉट करने के लिए आवाज़ उठने लगीं। वहीं बहुत से लोग दीपिका के समर्थन में भी आगे आए और उन्होंने फ़र्स्ट डे फ़र्स्ट शो देखने की बात की।

हम आपको बता दें कि अगर आप छत्तीसगढ़ और मध्यप्रदेश में रहते हैं तो आपको छपाक की टिकट बाक़ी जगहों की तुलना में कम पैसों में मिल जाएगी क्यूँकि इन दोनों ही जगह की सरकारों ने दीपिका की फ़िल्म को टैक्स फ़्री कर दिया है। फ़िल्म छपाक एक सच्ची कहानी घटना पर आधारित कहानी है। ये कहानी है प्रसिद्ध ऐसिड अटैक सर्वाइवर लक्ष्मी अग्रवाल के जीवन पर और उनके संघर्षों पर आधारित है। इसके साथ समाज का नज़रिया बदलने की बात की जा रही है।

दीपिका पादुकोण इस फ़िल्म के ज़रिए फ़िल्म निर्माण के क्षेत्र में भी क़दम रख रही हैं। इसके बाद आने वाली फ़िल्म 83 के निर्माण में भी दीपिका ने अपने पैसे लगाए हैं। हाल ही में छपाक की प्रेस कोनफ़्रेंस के वक़्त जब एक पत्रकार ने दीपिका के साथ-साथ रणवीर को भी फ़िल्म का प्रोड्यूसर बताया और कहा कि पैसे तो घर के ही लगे हैं तो दीपिका ने उन्हें करारा जवाब देते हुए कहा कि “मैंने अपने कमाए पैसे लगाए हैं” दीपिका की इस बात का समर्थन करते हुए छपाक फ़िल्म की निर्देशक मेघना गुलज़ार ने भी कहा कि “इस तरह की बात मान लेना सही नहीं है”