दीपिका पादुकोण की फ़िल्म “छ’पाक” हाल ही में रीलि’ज़ हुई है ये फ़िल्म ऐसि’ड अ’टैक वि’क्टम ल’क्ष्मी अग्रवाल के जीव’न पर बनी है। इस फ़िल्म के आने से पहले ही फ़िल्म के साथ वि’वाद जुड़ गए। प्रमोश’न के दौ’रान दिल्ली गयी दीपिका JNU में हुई हिं’सा के वि’रोध में हो रहे प्रद’र्शन में हि’स्सा लेने के लिए J’NU गयीं। इसके बाद से ही दीपिका की फ़िल्म को बाय’कॉट करने की बातें सोशल मीडिया में होने लगीं।

यही नहीं एक और अ’फ़वाह जो लगाता’र सो’शल मीडि’या के ज़रि’ए’ फै’लती गयी वो ये कि इस फ़िल्म में ऐ’सिड फें’कने वाले के नाम के साथ-साथ उसका ध’र्म भी बद’ल दिया गया है। ये अफ़वा’ह तो दूर हो गयी ले’किन दीपिका को ट्रो’ल करने और फ़िल्म छ’पाक को बायकॉ’ट करने की बात ल’गातार चलती रही। यूँ तो आँ’कड़े बताते हैं कि ऐसी सामा’जिक मुद्दों से जु’ड़ी फ़िल्में यूँ भी बॉक्स ऑफ़िस में जितना कमा’ती हैं उससे आगे छ’पाक निकल चुकी है।

जहाँ सभी दीपि’का की फ़िल्म को बायकॉ’ट करने की बात कर रहे हैं वहीं भाज’पा की एक ने’ता ने कहा कि सभी को फ़िल्म दे’खना चाहिए। ये ने’ता कोई और नहीं बल्कि बॉलीवु’ड की ड्रीमग’र्ल हेमा मालिनी हैं। हेमा ने कहा कि “हर कलाकार अपनी ब’ड़ी मे’हनत से फ़िल्म बनाता है और इस तरह की फ़िल्म में कलाकार ज़्या’दा मेह’नत करता है ऐसे में इस तरह की फ़ि’ल्म देखी जानी चाहिए। इन फ़ि’ल्मों से समा’ज में एक सं’देश भी जाता है।”

जब दीपिका के JNU जाने के बारे में उनसे उनके वि’चार पूछे गए तो हेमा मालिनी ने कहा कि “दीपिका वहाँ क्यों गयी इस स’वाल का जवाब तो वही दे सकती हैं और आपको उनसे ही ये स’वाल करना चाहिए। यूँ तो हमारे देश का संविधान सभी को ये इजा’ज़त देता है कि वो ख़ुद को अभिव्यक्त कर सकें और कहीं भी जाना- आना कर सकें”