दिलीप कुमार के बारे में ये मशहूर था कि वो जब भी फ़िल्मी परदे पर भावु’क अभिनय करते लोग अपने आँ’सू रो’क नहीं पाते थे। दिलीप कुमार को बॉलीवुड का ‘ट्रे’जडी किंग’ भी कहा जाता था। फ़िल्मी परदे से तो दिलीप साहब सालों पहले अल’ग हो गए थे फिर भी वो लोगों के बीच बने हुए थे लेकिन आज दिलीप साहब ने दुनिया के रंगमंच से ख़ुद को अल’ग कर लिया। जैसे ही दिलीप साहब के जाने की ख़’बर आयी पहले तो सभी ने यही चाहा कि काश ये एक अफ़’वाह हो पर ऐसा नहीं था क्योंकि ये ख़बर अधिका’रिक सूत्र से मिली थी।

दिलीप साहब के इंतक़ा’ल की ख़’बर मिलते ही न सिर्फ़ बॉलीवुड बल्कि देश भर में लोगों ने अपनी- अपनी श्रद्धांजलि देनी शुरू कर दी। हर एक के पास दिलीप कुमार के लिए कुछ न कुछ ऐसा है जो उन्होंने सहेज हुआ है। आज दिलीप साहब भले ही इस फ़ानी दुनिया को अलवि’दा कह गए हैं और शाम को उन्हें दी जा रही अंति’म वि’दाई का सिलसि’ला भी थ’म जाएगा लेकिन वो कभी वि’दा नहीं होंगे। दिलीप साहब हमेशा अपने चा’हने वालों के दिलों पर राज करते रहेंगे जैसे कि वो सालों से करते आए हैं।

दिलीप कुमार, एक ऐसा सितारा जिसे कोई टू’टते हुए नहीं देखना चाहता था। फ़िल्मी आसमान का ये सितारा जब आज टू’टा तो लाखों दिलों से यही दुआ नि’कली कि काश कोई और ऐसा न हो। वैसे ये सच भी है कि दिलीप कुमार जैसा न कोई हुआ और न होगा। जाने कितने सितारों ने दिलीप कुमार की मुस्कान देखकर अपने क़’दम आगे बढ़ाए कि वो भी फ़िल्मी दुनिया में अपना नाम कर पाएँगे। दिलीप साहब ने उस मु’क़ाम को पाया जहाँ किसी का भी पहुँच पाना नामु’मकिन है। तभी तो आज अपने इस चहेते सितारे को वि’दा करते हुए जा’ने- अनजा’ने कईयों की आँखें न’म हैं। इसी को तो कहते हैं न एक आलीशा’न ज़िंदगी, जहाँ तुम्हारे जाने पर ज़माना याद में आँ’सू बहाए।

error: Content is protected !!