बॉलीवुड एक लिए दो महीने से ही ग़’म का दौ’र सा चला जा रहा है। पहले अभिनेता इर’फ़ान ख़ा’न और ऋषि कपूर ने इस दुनिया को अलवि’दा कह दिया और सभी को स’कते में छो’ड़ गए। इसके बाद जैसे दौ’र सा चल गया। पिछले हफ़्ते ही गीतकार योगेश दुनिया को छो’ड़ गए। सबसे बड़ा झ’टका पिछले दिनों ही लगा जब मात्र 42 साल की उम्र में संगीतकार जोड़ी साजिद- वा’जिद के वा’ज़िद ख़ा’न का नि’धन हो गया। वो पिछले कई दिनों से अस्प’ताल में भ’र्ती थे और बाद में वो कोरो’ना से संक्र’मित भी हो गए थे। इस ख़’बर से पूरे बॉलीवुड में शो’क का मा’हौल था अभी सब इससे उ’बरे भी नहीं थे कि एक और दुः’खी करने वाली ख़’बर आ गयी।

ख़बर है कि 80-90 के दशक के गीतकार अनवर सागर का नि’धन हो गया है। उन्होंने ‘वादा रहा सनम’, ‘आशिक़ी में हर आशिक़’, ‘ख़त मैंने तेरे नाम लिखा हाल-ए- दिल तमाम लिखा’, ‘आपको देख के’ जैसे सुपरहि’ट गीत लिखे हैं। उनकी उम्र 70 साल थी। अनवर सागर ने ‘खिलाड़ी’ के अलावा ‘याराना’, ‘सलामी’, ‘आ गले लग जा’ जैसी कई फिल्मों के लिए गीत लिखे‌ थे। इसके अलावा उन्होंने 80 और 90 के दशक की कई फिल्मों का लेखन भी किया था। अनवर सागर के बेटे ने इस बारे में बात करते हुए बताया कि उनकी तबि’यत कुछ दिनों से ख़’राब चल रही थी लेकिन फ़ैमिली डॉक्टर ने सिर्फ़ मामू’ली स’र्दी खाँ’सी बता’कर द’वाई दी थी। अचा’नक उनकी तबि’यत बिग’ड़ने लगी तो आज उन्हें लेकर उनके बेटे सुल्तान सागर अस्प’ताल की ओर भा’गे। उनका कहना है कि उनके पिता को पहले किसी भी तरह की कोई बीमा’री नहीं थी।

Anvar Sagar
यहाँ भी कोरो’ना का’ल आ’ड़े आया क्योंकि समय पर इला’ज न मिलने के कार’ण एक गुणी इंसान दुनिया से चला गया। दरअसल किसी भी अस्प’ताल में उन्हें भ’र्ती करने के लिए अनुम’ति नहीं मिली। इस बारे में उनके बेटे सुल्तान सागर ने बताया कि “आज सुबह तबी’यत खरा’ब होने के बा’द मैं उन्हें ले’कर कई अस्प’तालों में गया लेकिन हर जगह उन्हें जगह की क’मी होने की बात कहकर भ’र्ती नहीं किया गया। आ’ख़िर मैं उन्हें अं’धेरी के कोकि’लाबेन धीरूभाई अंबानी अस्प’ताल लेकर‌ गया। पर तब तक दे’र हो चुकी थी और वहाँ पहुँचते तक उनके दिल ने ध’ड़कना बं’द कर‌‌ दिया और हा’र्ट अ’टैक से उनकी मौ’त हो गई। डॉक्टर्स ने अपनी ओर से सारी को’शिशें की लेकिन मैंने अपने पिता को खो दिया। क़रीब दोपहर 12 बजे उनकी‌ मौ’त हुई”

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *