बॉलीवुड में एक ऐसा भी वक़्त था जब फ़िल्मी गीतों के बोल किसी कविता से कम नहीं होते थे उन्हें सुनते हुए लगता था जैसे मन पर क़ा’बू कर लिया हो। बॉलीवुड में ऐसे ही अर्थपूर्ण गीत लिखने वाले गीतकारों में नाम शुमा’र है गीतकार योगेश का। कई सदाबहार गीत लिखने वाले योगेश के लिए काम मिलना इतना आसा’न नहीं था। वो किसी तरह अपने फुफेरे भाई स्क्रिप्ट राइटर योगेन्द्र गौड़ के सहारे 16 साल की उम्र में ही लखनऊ से मुंबई आ गए थे। लेकिन अपना नाम कमाने में उन्हें काफ़ी मेह’नत करनी पड़ी।

देखा जाए तो गीतकार योगेश के गीतों को उनके नाम के साथ पहचान मिली थी फ़िल्म आनंद के गीतों से। इससे जुड़ा एक रो’चक वाक़’या उन्होंने बताया था कि दरअ’सल उन्होंने “कहीं दू’र जब दिन ढ’ल जाए” ये गीत किसी और फ़िल्म के लिए लिखा था लेकिन जब ऋषिकेश मुखर्जी ने ये गीत सुना तो उन्होंने कहा कि ये गीत उनकी आने वाली फ़िल्म आनंद के लिए बिलकुल सही है। इस तरह योगेश को आनंद फ़िल्म मिली और उसके बाद मिला एक ऐसा नाम जो उनके साथ हमेशा रहा।

Rajesh Khanna-Lyricist Yogesh Gaud
यूँ तो इंडस्ट्री में जो जगह गीतकार योगेश को मिलनी चाहिए थी वो उन्हें नहीं मिली लेकिन जो भी मौ’क़ा उन्हें मिला उसका योगेश ने भरपूर फ़ा’यदा उठाया और ऐसे- ऐसे बोल लिखे जो अम’र हो गए। कोई भी उनके लिखे गीतों को भू’ल नहीं सकता लोग उन गीतों को न सिर्फ़ यादों में बसाए हुए हैं बल्कि हर महफ़िल में वो गीत गुनगुनाए जाते हैं। चाहे फिर वो बातों-बातों में का गीत “ना बोले तुम ना मैंने कुछ कहा” या “सुनिए- कहिए” हो वहीं “रिमझिम गि’रे सावन” गीत के बिना तो जैसे कोई भी बरसात का मौसम बी’त ही नहीं सकता।

फ़िल्मी गीतों का दौ’र बद’ला तो योगेश ने टेलीविजन की ओर रू’ख किया। कई सुपरहि’ट सीरियल्स में बतौ’र लेखक उन्होंने काम किया। इन सीरियल्स में चंद्रकांता, हस’रतें, थोड़ा है थोड़े कि ज़रूरत है, गुदगुदी जैसे नाम शा’मिल हैं। मुंबई के गोरेगाँव में एक फ़्लैट में रहने वाले गीतकार योगेश ने आज इस दुनिया को अलवि’दा कह दिया है। वो जिस तरह आज अपने गीतों में हमें याद आ रहे हैं शा’यद ये जज़्बात हम ब’यान नहीं कर पाते अगर गीतकार योगेश ने उन्हें पहले ही न लिख दिया होता। न जाने क्यों होता है ये ज़िंदगी के साथ अचा’नक ये मन किसी के जा’ने के बाद करे फिर उसकी याद छोटी-छोटी सी बात।

Vidya Sinha- Yogesh Gaud

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *