कंगना रणावत इन दिनों पूरे दिन अपना वक़्त शायद सोशल मीडिया में ब’यानबा’ज़ी करने और लोगों को ट्रो’ल करने में लगा रही हैं। यूँ तो वो पहले भी इस तरह के ट्वीट्स किया ही करती थीं लेकिन इन दिनों वो अपने फ़्री टाइम का पूरा उपयोग लोगों से भि’ड़ने में कर रही हैं। हाल ही में कंगना ने कई ऐसे ट्वीट किए कि उन्हें लोगों ने आ’ड़े हाथों लेना शुरू किया। उन्होंने न सिर्फ़ सेलब्स बल्कि आम लोगों को भी ज’वाब देना शुरू कर दिया। उन्होंने कइयों को फ़े’क फ़ेमेनि’स्ट और भी न जाने क्या-क्या उपा’धि दे दी लेकिन ऐसे में उनका और अनुराग कश्यप की ट्वीट भि’ड़ंत क’माल की रही लोगों ने इसका ख़ूब आनन्द लिया।

कंगना ने एक ट्वीट किया और लिखा, “मैं एक क्ष’त्राणी हूँ। सर क’टा सकती हूँ, लेकिन सर झुका सकती नहीं! राष्ट्र के सम्मान के लिए हमेशा आवाज़ बुलं’द करती रहूँगी। मान, सम्मान, स्वाभि’मान के साथ जी हूँ और गर्व से राष्ट्रवादी बनकर जीती रहूँगी! सिद्धांत के साथ नहीं कभी सम’झौता की हूं नहीं कभी करूंगी! जय हिंद।” इस ट्वीट के जवाब में अनुराग कश्यप ने लिखा, “बस एक तू ही है बहन – इकलौती मणिकर्णिका । तू ना चार पाँच को ले के च’ढ़ जा चीन पे। देखो कितना अंदर तक ‘घुस आए हैं । दिखा दे उनको भी कि जब तक तू है इस देश का कोई बाल भी बाँ’का नहीं कर सकता। तेरे घर से एक दिन का सफ़र है बस LAC का । जा शेरनी। जय हिंद।”

Kangana Ranaut- Anurag Kashyap
कंगना भी कहाँ चु’प बै’ठने वाली थी उन्होंने भी ट्वीट का जवाब देते हुए लिखा, “ठीक है मैं बॉर्डर पे जाती हूँ आप अगले अलिम्पिक्स में चले जाना, देश को गोल्ड मडेलस चाहिए हा हा हा यह सब कोई बी ग्रेड फ़िल्म नहीं है जहां कलाकार कुछ भी बन जाता है, आप तो मेटफ़ॉ’र्ज़ को लि’टरली लेने लगे, इतने मं’दबुद्धि कब से हो गए, जब हमारी दोस्ती थी तब तो काफ़ी चतुर थे”। इसके जवाब में अनुराग कश्यप ने कुछ ऐसा लिखा कि कँगना ने अपने क़द’म पीछे ले लिए। जवाब में अनुराग ने लिखा “तेरी ज़िंदगी ही अब metaphor हो गयी है बहन। हर कही बात भी metaphor है। हर इल्ज़ा’म metaphor है।”

आगे अनुराग ने लिखा, “इतना metaphor दे मा’रा है तुमने Twitter पे कि जनता, बेरोज़गारी generator को तुम्हारा dialogue राइटर कहने लग गयी है। जब की मुझसे अच्छा कोई नहीं जा’नता तुम कितना अच्छा improvise करती हो।” कँगना ने इसके बाद अपने क़द’म पीछे ह’टा लिए और लिखा “ओह! यहाँ मुझे एक शर्मिं’दगी भ’रा मे’ल्टडा’उन नज़र आ रहा है। तुम्हारी बातों का कोई मतलब ही नहीं निकल रहा। मैं और बु’रा नहीं करना चाहती इसलिए मैं अपने क़द’म वाप’स लेती हूँ। बु’रा मह’सूस न करो मेरे दोस्त, हल्दी वाला दूध पियो और सो जाओ। कल एक नया दिन निकलेगा।” इन दिनों कंगना पूरे दिन कुछ इसी तरह से लोगों के साथ भि’ड़ी नज़र आती हैं।