मुंबई: शाहरुख़ ख़ान के बेटे आर्यन ख़ान से जुड़े ड्रग्स केस में NCB के ज़ोनल अधिकारी समीर वानखेड़े पर भ्रष्टाचार और फ़िरौती जैसे आरोप लगने के बाद उन्हें इस केस की जांच से हटा दिया गया है. समीर वानखेड़े पर वसूली जैसे गंभीर आरोप लगे हैं. दिल्ली NCB की एक टीम अब इस केस के साथ 5 अन्य केस की जांच करेगी.

ये टीम शनिवार को यहाँ पहुंचेगी. समाचार एजेंसी ANI के एक ट्वीट के मुताबिक़, एनसीबी के साउथ वेस्टर्न डिप्टी डीजी मुथा अशोक जैन ने कहा, हमारे जोन के कुल 6 केस की अब दिल्ली की एनसीबी की टीमें जांच करेंगी, जिसमें आर्यन खान का केस और 5 अन्य केस शामिल हैं। ये एक प्राशसनिक निर्णय था।

समीर वानखेड़े ने एएनआई को बताया,”मुझे जांच से नहीं हटाया गया है। कोर्ट में मेरी रिट याचिका थी कि केस की जांच किसी सेंट्रल एजेंसी से कराई जाए। इसलिए आर्यन केस और समीर खान केस की जांच दिल्ली एनसीबी की एसआईटी कर रही है। ये दिल्ली और मुंबई की एनसीबी टीमों के बीच एक समन्वय है।”

हालाँकि समीर वानखेड़े की इस बात को लेकर भी महाराष्ट्र सरकार के कैबिनेट मंत्री नवाब मलिक ने उन पर निशाना साधा. उन्होंने कहा कि या तो समाचार एजेंसी ने ग़लत लिख दिया है या फिर समीर वानखेड़े राष्ट्र को गुमराह कर रहे हैं.


आर्यन केस से चर्चा में आया सैम डिसूज़ा ने दिया बड़ा बयान…
क्रूज़ ड्र’ग मामले में सैम डिसूज़ा ने एक बड़ा दावा कर दिया है. सैम डिसूज़ा ने आर्यन ख़ान के बारे में कहा कि उनके बारे में उन्हें मालूम चला था कि उनके पास से कोई भी चीज़ बरामद नहीं हुई थी. उन्होंने कहा कि किरण गोसावी पैसों की डील करना चाहता था. उन्होंने ये भी दावा किया कि सुनील नाम के शख्स को गोसावी से निर्देश मिल रहे थे.

एक प्राइवेट चैनल से बात करते हुए सैम ने 18 करोड़ की डील के सवाल पर अपना पक्ष रखा और कहा,”मेरा इसमें कुछ लेना देना नहीं है. सुनील पाटिल ने मुझे फोन किया था. और कहा था कि मेरे पास कॉर्डेलिया शिप के बारे में मेरे पास कुछ जानकारी है. उसके बाद उन्होंने मुझे कॉल कर के कहा कि एनसीबी अधिकारी के साथ कनेक्ट कराएं. जब मैंने कनेक्ट करा दिया तो किरण गोसावी का मेरे पास फोन आया. उन्होंने कहा कि हम लोग अभी अहमदाबाद में है और सुबह सात बजे तक मुंबई पहुंच जाएंगे.”

सैम ने कहा कि आर्यन ख़ान ने किरण गोसावी से कहा था कि मेरी मैनेजर से बात कराइए. उन्होंने कहा कि पूजा ददलानी के बारे में उन्हें आर्यन से ही पता चला. सैम ने कहा कि उस वक्त गोसावी ने उन्हें बताया कि वो (आर्यन खान) क्लीन है, उसके पास से कुछ नहीं मिला. और हम उसकी मदद कर सकते हैं.

सैम डिसूज़ा ने बताया कि गोसावी ने उन्हें आर्यन खान का सिल्वर रंग का बैग दिखाया और बैग की तस्वीर भी ली. उसके बाद वो अंदर (एनसीबी दफ्तर में) गया. गोसावी ने आर्यन की आवाज़ रिकॉर्ड की जिसमें आर्यन कह रहे थे कि “पापा मैं एनसीबी में हूं”” सैम ने कहा कि मैंने उन लोगों की मुलाक़ात कराई थी. लोअर परेल में ये मीटिंग हुई जिसमें सैम के कहने के मुताबिक़ उसके अलावा किरण गोसावी, चिक्की पाण्डेय, पूजा ददलानी और पूजा ददलानी के पति मौजूद थे.

सैम ने बताया कि उन्हें सुनील पाटिल के ज़रिए मालूम चला कि गोसावी ने टोकन अमाउंट माँगा है. सैम ने दावा कि उन्हें इसके बारे में कुछ नहीं पता था लेकिन 50 लाख का टोकन अमाउंट लिया गया था लेकिन बाद में गोसावी चीट निकला. सैम ने कहा कि इसके बाद उन्होंने गोसावी से पैसे वापिस करने को कहा और एक बार 38 लाख और एक बार 5 लाख गोसावी ने भेजे जबकि बाक़ी पैसे सैम ने एक दोस्त से लेकर वापिस किए.

सैम के बयान कई जगह प्रभाकर सैल से मैच करते हैं. प्रभाकर इस केस का प्रमुख गवाह माना जा रहा था जो मुकर गया. प्रभाकर ने मीडिया के सामने आकर NCB की पूरी कार्यवाई को आलोचना के घेरे में ला दिया. NCB के ज़ोनल अधिकारी समीर वानखेड़े पर इस केस में गंभी’र आरो’प लगे हैं. यही वजह है कि NCB ने अहम् फ़ैसला लेते हुए उन्हें 6 केसेस की जाँच से हटा दिया.

error: Content is protected !!