मुम्बई: ड्र’ग्स के सेवन के बहुत से मामले रोज़ पेश आते हैं और रोज़ ही उनको समझा बुझाकर वापिस घर भेज दिया जाता है लेकिन जब किसी सेलेब का मामला हो तो मीडिया भी इस ख़बर के पीछे पड़ जाता है. अब चाहे उस व्यक्ति के पास से ड्र’ग्स निकला हो या नहीं, मीडिया में दो पक्ष अपने आप बन जाते हैं. कुछ इसी तरह का मामला शाहरुख़ ख़ान के बेटे आर्यन के साथ हुआ.

आर्यन केस में आर्यन के पास न तो ड्र’ग्स ही मिली और न ही उन्होंने हिरास’त में लिए जाने के समय किसी न’शीले पदार्थ का सेवन किया था. इसके बाद भी उन्हें जेल में रहना पड़ा और आख़िर उन्हें बॉम्बे हाई कोर्ट से ज़मानत मिली और वो रिहा हो सके. इस मामले को अब 6 महीने से अधिक हो गए हैं और शाहरुख़ का परिवार इससे बाहर भी निकल आया है.

अब इसमें ताज़ा ख़बर है कि एनसीबी ने अपने ही दो अधिकारीयों पर बड़ी कार्यवाई की है. NCB ने अपने दो अधिकारियों को निलंबित कर दिया है। सूत्रों के मुताबिक़ निलंबित किए गए दोनों अधिकारियों के नाम वीवी सिंह (विश्व विजय सिंह) और आशीष रंजन प्रसाद है। बताया जा रहा है कि ये दोनों अधिकारी आर्यन खान ड्रग केस में जांच का हिस्सा थे।

खबरों के मुताबिक, एनसीबी के दोनों अधिकारियों को संदिग्ध गतिविधि में शामिल होने के चलते तत्काल प्रभाव से निलंबित किया गया है, हालांकि अभी यह स्पष्ट नहीं हुआ है कि उन्हें आर्यन खान ड्र’ग्स मामले में उनकी भूमिका के लिए निलंबित किया गया है या नहीं। आर्यन खान को 3 अक्टूबर की रात मुंबई से गोवा जा रहे क्रूज से एनसीबी ने छापेमारी के दौरान गिरफ्तार किया था।

नारकोटिक्स कंट्रोल ब्यूरो की तरफ से आर्यन खान पर अवै’ध ड्र’ग्स रखने और खरीद-बिक्री करने के आरो’प लगा था। उनके साथ ही कई अन्य लोगों को भी गिरफ्तार किया गया था। हालांकि बाद में कोर्ट की तरफ से आर्यन खान को जमानत दे दी गई थी। इस मामले में मुख्य रूप से जांच कर रहे अधिकारी वानखेड़े की कार्यशैली पर भी बाद में कई सवाल उठाए गए थे।

मीडिया में आयी रिपोर्ट के मुताबिक़ जांच टीम का कहना था कि छापे के दौरान अनियमितता बरती गई थी और उस दौरान कोई वीडियो रिकॉर्डिंग नहीं की गई थी। जज ने भी इस मामले टिप्पणी करते हुए कहा था कि आर्यन खान, अरबाज मर्चेंट और मुनमुन धनेचा शिप पर थे, सिर्फ इसलिए उन्हें इस रैकेट का हिस्सा नहीं माना जा सकता है। पुख्ता सबूत न मिलने के कारण आर्यन आर्यन खान को इस मामले में जमानत दे दी थी।

error: Content is protected !!