मुम्बई: बॉलीवुड सुपरस्टार शाहरुख़ ख़ान के बेटे से जुड़े केस में आज एक गवाह ने ऐसा बयान दिया जिसके बाद सनसनी फैल गई. इस गवाह ने वीडियो और फ़ोटो भी शेयर किया है जिससे NCB की पूरी कार्यवाई सवालों के घेरे में आ गई है. मामले में प्रथम गवाह प्रभाकर सैल ने दावा किया कि उन्हें कोरे पंचनामे पर दस्तख़त करने को कहा गया, साथ ही 18 करोड़ की फ़िरौती की बात भी उन्होंने बताई है.


इस पूरे मामले पर अब राजनीतिक लोगों ने भी टिपण्णी करनी शुरू कर दी है. शिवसेना के नेता संजय राउत ने भी ट्वीट किया है. उन्होंने इस पर कहा कि पुलिस को इस मामले में स्वत: संज्ञान लेना चाहिए. राउत ने मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे की बात को दोहराया कि इन सभी मामलों के ज़रिए महाराष्ट्र को ड्रग्स के नाम पर बदनाम किया जा रहा है. प्रभाकर सैल के बयान के बाद महाराष्ट्र सरकार में मंत्री और एनसीपी नेता नवाब मलिक ने ट्विटर पर लिखे,”सत्य ही जीतेगा ..सत्यमेव जयते.”

आपको बता दें कि आर्यन ख़ान केस में आज एक चौंकाने वाला ट्विस्ट आ गया है. इस केस में मुख्य ग’वाह ने ऐसी बातें मीडिया को बताई हैं जिसके बाद NCB की कार्यवाई सवालों के घेरे में आ गई है. आरोप यहाँ तक लग रहा है कि ये कार्यवाई सिर्फ़ शाहरुख़ ख़ान से फ़िरौती ऐंठने के इरादे से की गई है. मामले में ग’वाह नम्बर एक प्रभाकर सेल ने चौंकाने वाली बातें मीडिया को बताई हैं.


उन्होंने बताया कि उनसे कोरे काग़ज़ पर दस्तख़त कराए गए. उन्होंने कहा कि NCB के समीर वानखेड़े और एक अन्य अधिकारी ने उन पर कोरे काग़ज़ वाले पंचनामे पर दस्तख़त करने के लिए कहा. प्रभाकर भगोड़े केपी गोसावी के बॉडीगार्ड का काम कर रहे थे. उन्होंने इस बात पर ऑब्जेक्शन भी किया लेकिन NCB दफ़्तर में होने की वजह से वह इसका अधिक विरोध नहीं कर सके.

प्रभाकर ने एक वीडियो भी दिखाया जिसमें केपी गोसावी बॉलीवुड सुपरस्टार शाहरुख़ ख़ान के बेटे आर्यन ख़ान की किसी से फ़ोन पर बात करा रहा था. ये वीडियो अब मीडिया में आ चुका है. इसके अलावा प्रभाकर ने किसी सैम नामक व्यक्ति की फोटो भी दिखाई जिसका सम्बन्ध भी इस मामले में निकल कर आ रहा है. प्रभाकर ने दावा किया कि कार के अन्दर हुई एक मीटिंग में केपी गोसावी ने सैम से कहा कि 25 करोड़ की बात करो और 18 तक बात अगर हो जाए तो done करो.


प्रभाकर ने दावा किया कि केपी गोसावी ने 18 करोड़ में से 8 करोड़ समीर वानखेड़े को देने की बात कही जबकि 10 करोड़ सैम और वो आपस में बाँटने वाले थे. प्रभाकर के दावे के बाद NCB की पूरी करवाई सवालों के घेरे में आ गई है. प्रभाकर ने ये भी कहा है कि उन्हें समीर वानखेड़े से जान का ख़’तरा है.

इस मामले पर समीर वानखेड़े से जब टिपण्णी माँगी गई तो उन्होंने बस ये कहा कि वह इसका जवाब देंगे. इस मामले में अब कुछ सवाल खड़े हो रहे हैं- 1. NCB ने दावा किया था कि गोसावी एक स्वतंत्र गवा’ह है लेकिन उसको छापेमारी की ख़बर कैसे हुई? 2. प्रभाकर ने गोसावी और आर्यन का जो नया वीडियो शेयर किया है उससे ज़ाहिर है कि गोसावी NCB दफ़्तर के अन्दर ही कुछ डील कर रहा है. अगर नहीं तो इसकी हक़ीक़त क्या है? 3. ग’वाह के दावे के अनुसार पंचनामा ब्लैंक था तो ब्लैंक पंचनामे पर दस्तख़त क्यूँ करने को कहा गया? 4. सैम कौन है और इस केस से उसका क्या सम्बन्ध है?

error: Content is protected !!