बॉलीवुड पिछले कई महीनों से लोगों के ग़ु’स्से का सामना कर रहा है पहले सुशांत सिंह के सुसा’इड के बाद बॉलीवुड पर नेपोटि’ज़्म का इल्ज़ा’म लगा। उसके बाद जैसे ही ड्र’ग्स का मामला आया तो बॉलीवुड को ड्र’ग्स मामले में घेरा जाने लगा। ये बयान आने लगे कि बॉलीवुड पूरी तरह ड्र’ग्स में डू’बा हुआ है और यहाँ कई बड़े सितारे ड्र’ग्स लेते हैं। यही नहीं जब संसद तक ये बात पहुँची और एक बयान में रवि किशन ने पूरे बॉलीवुड को लपे’टे में लिया तो सांसद जया बच्चन ने बॉलीवुड के पक्ष में बोलते हुए कहा कि किस तरह बॉलीवुड में कुछ लोगों के ख़’राब होने पर पूरी इंडस्ट्री को ख़’राब नहीं कहा जाना चाहिए। जिसके बाद एक अल’ग ही बह’स मीडिया और सोशल मीडिया में छि’ड़ गयी।

जया बच्चन ने कहावत का इस्ते’माल किया और कहा “जिस थाली में खाते हैं उसी में छे’द करते हैं’ ऐसे में पूरा सोशल मीडिया थाली शब्द से भर गया। वहीं कई सितारों ने जया बच्चन का सम’र्थन किया शायद इस समय जया बच्चन बॉलीवुड की वो आवाज़ बनकर उभ’री हैं जिसकी ज़रूरत काफ़ी समय से बॉलीवुड को थी। लेकिन इस माम’ले ने कुछ अलग ही तू’ल पक’ड़ लिया और लोग जया बच्चन के ख़िला’फ़ शे’मलेस जया बच्चन हैशटैग चलाया है, तो कईयों ने जया बच्चन की फ़ैमिली पर निशा’ना सा’धा है। लोगों ने तो यहाँ तक भी कहा कि जया बच्चन की बेटी श्वेता नंदा इस तरह की पार्टियों में शामिल होती हैं जिसके कारण वो ड्र’ग्स का सम’र्थन कर रही हैं।

Jaya Bachchan
जबकि देखा जाए तो जया बच्चन ने अपने पूरे ब’यान में ड्र’ग्स का सम’र्थन नहीं किया बल्कि ये कहा कि कुछ लोगों के बुरे ब’र्ताव के चलते पूरी इंडस्ट्री को ब’दनाम न किया जाए और उसे वो इज़्ज़त और मान- सम्मान मिले जिसकी बॉलीवुड हक़दार है। लेकिन लोगों ने इस बात को अल’ग तरह से ही लिया, कुछ उसी तरह जिस तरह उनकी कही कहावत को लिया और अब जगह-जगह थाली शब्द पढ़ने मिल रहा है। इस मामले में जया बच्चन के परिवार को तो खीं’चा ही गया और तरह- तरह की बातें की गयीं यहाँ तक कि लोगों ने आराध्या का नाम भी लेना शुरू कर दिया। कुछ ने ये भी कहा कि जया बच्चन के कहे शब्द उनके नहीं बल्कि अमिताभ के थे।

यहाँ ये जा’नना ज़रूरी है कि बहुत से माम’लों में बाक़ी सितारों की ही तरह अमिताभ भी चु’प्पी साध जाते हैं लेकिन जया बच्चन हमेशा अपना प’क्ष रखती हैं। इस मामले में यूँ तो अमिताभ बच्चन ने सीधे कुछ नहीं कहा उन्होंने न ही जया बच्चन की बात का सम’र्थन किया और न ही कुछ भी कहा। लेकिन हाल में उनके किए कुछ ट्वीट्स पर ध्यान दिया जाए तो वो एक तरह से जया बच्चन के बयान का सम’र्थन करते नज़र आते हैं। अमिताभ ने ट्वीट किया, “सागर को घमं’ड था कि मैं सारी दुनिया को डु’बा सकता हूँ, इतने में तेल की एक बूँद आयी, और तैरकर निकल गयी” यहाँ तेल की बूँद जया बच्चन को कहा गया लगता है। जिन्होंने बॉलीवुड में चलते विवा’दों के सागर में ख़ुद को अलग सा’बित किया है।

Amitabh- Jaya Bacchan
वहीं अमिताभ ने इसके बाद जो ट्वीट किया वो लोगों के सोचने की बात है क्योंकि वाक़ई सच कुछ ऐसा ही है। इस ट्वीट में अमिताभ ने लिखा कि “झू’ठे हैं लोग जो सुबह को शाम..शाम को अंधेरे कहते हैं, देखा है हमने चिराग़ों से ज’लने वाले चिराग़ों को घे’रे रहते हैं”। यूँ तो अमिताभ ने इस ट्वीट पर ऐसा कुछ कहा नहीं लेकिन ये बात उन लोगों पर ख’री उतरती है जो यूँ तो बॉलीवुड की बु’राई कर रहे हैं लेकिन वहीं वो बॉलीवुड सितारों की ज़िंदगी में झाँ’कने का मौक़ा भी नहीं छो’ड़ना चाहते। कुछ न कहकर भी सब कह जाने की कला दिखाकर अमिताभ ने लोगों को सोचने पर मज’बूर ज़रूर किया होगा।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *