बॉलीवुड ऐक्टर न सिर्फ़ फ़िल्मी पर्दे पर बल्कि आम ज़िंदगी में भी लोगों को काफ़ी प्रभा’वित करते हैं। उन्होंने जो किरदा’र नि’भाए होते है वो लोगों के मन पर अपनी छा’प छो’ड़ते हैं और उनकी वही छवि लोगों को भा’ती है। ऐसे में कई बार द’र्शकों को लगता है कि स्टार्स अपनी ज़िंदगी में ऐसे ही हैं जब बड़े-बड़े ऐ’ड फ़िल्म मे’कर्स सितारों को अपने विज्ञापन में लेते हैं तो उनके बोलने पर हम अपने चहेते कलाकारों द्वारा दिखाई चीज़ों को ख़रीदने का मन भी बना लेते हैं और अक्सर बिना कुछ सो’चे सम’झे ख़’रीद भी लेते हैं।

अक्सर ये कहा जाता है कि फ़िल्मी सितारों को किसी भी विज्ञापन के लिए हामी भ’रने से पहले उस विषय में जानका’री लेनी चाहिए ताकि वो अपने फ़ैन्स को गुम’राह न करें। फ़ैन्स उनका ही चे’हरा देखकर और उनकी बातें सुनकर किसी भी चीज़ को ख़’रीद लेते हैं। फिर भी सितारे बिना पर’खे सिर्फ़ ब’दले में मिल रही मो’टी धनराशि को देखकर किसी भी चीज़ का विज्ञापन करते हैं और अपने फ़ैन्स को भी गुम’राह करते हैं। हाल ही में विज्ञापनों की सत्यता जाँ’चने वाली मा’नक परिषद ने कई विज्ञापनों की जाँ’च की तो उन्होंने पाया कि 101 विज्ञा’पन भ्रा’मक हैं।

आपको ये जा’नकर आ’श्चर्य होगा कि इनमें से कई विज्ञापनों में कई बड़े सि’तारे शामिल हैं। इन सितारों में अमिताभ बच्चन(स्टेप अप विज्ञापन), ह्रितिक रोशन(जॉ’ली तुलसी 51), अक्षय कुमार और करीना कपूर(इंदिरा IVF हॉस्पिटल) और सानिया नेहवाल का नाम भी शा’मिल है। इन सितारों के बिना जाँ’चे प’रखे इस तरह के भ्रा’मक विज्ञा’पन करने के लिए मा’नक परिषद ने इन सितारों की आलो’चना की है। एक पब्लिक फ़ी’गर होने के नाते सितारों से ये उ’म्मीद की जाती है कि वो सिर्फ़ पैसों की ख़ा’तिर अपने फ़ैन्स को भ्रा’मक चीज़ों की ओर न भे’जें।