एक्ट्रेस ने सुनायी दिल द’हलाने वाली बात, “पता नहीं अब मैं ब’चूँगी या नहीं..”

एक्ट्रेस की ज़िंदगी सभी को काफ़ी चमक- दमक से भरी लगती है लेकिन ऐसा नहीं है। कई एक्ट्रेस को अपनी ज़िंदगी में कड़े संघ’र्ष करने पड़े हैं। उन्हें ये भी समझ नहीं आता कि उनका करियर कहीं आगे बढ़ेगा या नहीं। अचानक चलता करियर कब डू’ब जाए इसका पता भी नहीं होता। ऐसे में इस अनिश्चित काम में कब तक कोई बना रहता है ये कई बार वो ख़ुद तय नहीं कर पाता। कुछ ऐसा ही हुआ रतन राजपूत के साथ भी।

‘न आना इस देस लाडो’ सीरियल से हि’ट हुई रतन ने कई सीरियल में काम किया। उन्हें एक पहचान भी मिली लेकिन कुछ समय के बाद रतन इस एक्टिंग की दुनिया से दू’र हैं लेकिन वो अपने विडियो यूट्यूब में पोस्ट करती हैं जिससे लोगों को उनके बारे में पता चलता रहता है। हाल ही में रतन राजपूत ने अपना एक विडीयो पोस्ट किया तो उसमें एक ऐसी बात बतायी जिसे सुनकर सब काँ’प उठे। यही नहीं रतन ख़ुद रो’ने लगीं।

रतन ने बताया कि वो जब दिल्ली में रहा करती थीं और अपना काम किया करती थीं।वो अपने परिवार की पहली ऐसी शख़्स थीं जिसने मोबाइल ख़रीदा था। उस वक्त वो दिल्ली में नौकरी तो करती ही थीं साथ ही ड्रामा क्लासेस भी लिया करती थीं। जब उन्होंने अपना पहला फ़ोन ख़रीदा तो वो 4 हज़ार का था। एक रोज जब वो ड्रामा क्लास से घर लौ’ट रही थीं और अपनी माँ से बात कर रही थीं। तो उन्हें लगा कि कोई उनके हाथ से फ़ोन छी’नने की कोशिश कर रहा है।रतन ने फ़ोन ब’चाने की कोशिश की।

रतन ने उस घ’टना के बारे में बताते हुए कहा कि “उस लड़के ने मेरा फ़ोन छी’न लिया। मैं वहाँ मौजूद लोगों से चि’ल्ला- चि’ल्ला कर मदद माँ’गती रही लेकिन वहाँ मौजूद लोग सिर्फ़ देख ही रहे थे। मैंने फ़ोन वाप’स पाने के लिए उस लड़के का पीछा किया। उस समय रात के साढ़े आठ बज रहे होंगे। तभी वहाँ एक लड़का आया और जब मैंने उससे मदद मां’गी तो उसने मेरा हाथ ज़ो’र से पक’ड़ लिया। वो मुझे जंगल की तरफ़ खीं’चने लगा। वो कह रहा था कि आ तुझे तेरा फ़ोन दिलाता हूँ”।

रतन ने आगे बताया कि “मुझे लगा कि मैं तो आज गयी। पता नहीं अब मैं ब’चूँगी या नहीं। मैं लगातार चि’ल्ला रही थी लेकिन कोई मदद को सामने नहीं आया। सब बस देख रहे थे। तभी दो लड़के स्कूटर से जा रहे थे मेरी मदद को आए। उन्होंने मुझे बचाया, वो स्टूडेंट थे तो मुझे मेरे घर तक भी उन्होंने ही पहुँचाया”। रतन बताती हैं कि इसके बाद से उनके मन में ड’र बैठ गया। उन्हें लगा कि लड़की होने के कार’ण उन्हें सम्भलकर रहना चाहिए।

रतन ने विडीयो में ये भी बताया कि “अब मैं समझ सकती हूँ कि जिनके साथ ऐसा कुछ होता है वो किस फ़ेज़ में होती हैं। उस दिन मेरे दिमाग़ में बस यही चल रहा था कि कहीं आज मैं न्यूज़ न बन जाऊँ। मेरे साथ वही हो सकता था जो मैं न्यूज़ में देखती। हूँ। मैं किसी गट’र में फें’क दी गयी होती, या मुझे मा’र दिया गया होता”। रतन की बतायी इस घ’टना ने उनके फ़ैस को भी झ’कझो’र दिया।

चुग़ली बाज़

चुग़ली बाज़

Leave a Reply

Your email address will not be published.

error: Content is protected !!