जब से देश में CAA और NRC का मुद्दा आया है बड़े- बड़े दिग्गज आपस में भिड़ जाते हैं। हाल ही में जब सीनियर ऐक्टर नसीरुद्दीन शाह से इस बारे में पूछा गया तो उन्होंने दीपिका के JNU जाने पर कहा कि उस लड़की के हिम्मत की दाद देनी पड़ेगी जहाँ बॉलीवुड के अधिकांश लोगों ने इस मामले में चुप्पी सदहि हुई है ऐसे में दीपिका जिसके पास खोने को बहुत कुछ है, वहाँ जाने की हिम्मत दिखाती है और उसके लिए इतना कुछ सहती है।

वहीं जब नसीरुद्दीन शाह से उनके सह अभिनेता रहे अनुपम खेर के बारे में पूछा गया तो उन्होंने कहा कि “अनुपम खेर जैसे लोग बहुत बोलते हैं। मुझे नहीं लागत कि उन्हें गम्भीरता से लिया जाना चाहिए। वो एक विदूषक हैं, उनके साथ पढ़े NFD और FTII के किसी भी व्यक्ति से पूछ लीजिए वो आपको बता देंगे कि उसके व्यवहार में चाटुकारिता है। ये उसके ख़ून में है हम कुछ नहीं कर सकते”

नसीरुद्दीन शाह की ये बात सुनकर अनुपम खेर ने भी सोशल मीडिया का इस्तेमाल करते हुए उन्हें जवाब दिया। अनुपम खेर ने विडीओ में कहा कि
“जनाब नसीरुद्दीन शाह साहब मेरे लिए आपका दिया हुआ इंटरव्यू देखा। आपने मेरी तारीफ में कुछ बातें कहीं कि मैं जोकर हूं, मुझे सीरियसली नहीं लेना चाहिए। मैं साइको फैन हूं, ये मेरे खून में है, वगैरह- वगैरह। इस तारीफ के लिए शुक्रिया पर मैं आपको और आपकी बातों को बिलकुल भी सीरियस नहीं लेता। मैंने कभी-भी आपकी बुराई नहीं की, आपको भला-बुरा नहीं कहा पर अब जरूर कहना चाहूंगा कि आपने अपनी पूरी जिंदगी इतनी कामयाबी मिलने के बावजूद, निराशा में गुजारी है।”

आगे अनुपम ने कहा कि “अगर आप दिलीप कुमार साहब को, अमिताभ बच्चन साहब को, राजेश खन्ना साहब को विराट कोहली को क्रिटिसाइज कर सकते हैं, तो मुझे लगता है कि मैं एक अच्छी कंपनी में हूं। इनमें से किसी ने भी आपकी किसी भी स्टेटमेंट को सीरियसली नहीं लिया क्योंकि हम सब जानते हैं कि ये आप नहीं, बल्कि बरसों से आप जिन पदार्थों का सेवन करते आए हैं उसका नतीजा है। क्या सही है और क्या गलत है, आपको इसका अंतर ही नहीं पता लगा। मेरी बुराई करके अगर आप एक-दो दिन की सुर्खियों में आते हैं तो मैं आपको ये खुशी भेंट करता हूं। भगवान आपको खुश रखे, आपका शुभचिंतक अनुपम। और आप जानते हैं मेरे खून में क्या है? मेरे खून में है हिन्दुस्तान। इसको समझ जाइए बस, जय हिंद”